मच्छर क्यों काटते है? (Why do mosquitoes bite?)

हेलो दोस्तों आज बात करने वाले है सबकी परेशानी के बारेमे यानि मच्छर के बारे में मच्छर क्यों काटते है? ,मच्छर क्यों और किसको ज्यादा काटते है? और मच्छर काटते नेसे बहोत सारी बीमारिया भी फैलती है जैसेकि जीका, डेंगू और मलेरिया जैसी बीमारियां मच्छर काटनेसे होती है. ऐसे जीवो का बसेरा आपके आस पास फैली गंदगी, बहोत समय से पड़ा हुआ गंदा पानी में होता है और जसे ही मनुष्य में संपर्क में आते है या काटते है तो इसे कई तरह की जानलेवा बीमारिया भी होती है.

आमतौर पर मच्छर सबको काटते है मगर एक रिसर्च में बतायाकि कुछ लोग ऐसे होते है जिसे काटना मच्छर ज़्यादा पसंद करते है यानि कुछ मनुष्यो को पहले निशाना बनाते है. आज-कल सबको यही परेशानी है और कुछ लोगो को लगता है कि मच्छर उसे ज्यादा काटते है तो आज जानते है की मच्छर क्यों और किसको ज्यादा काटते है?

मच्छर क्यों काटते है

मच्छर क्यों काटते है?

मच्छर काट ने के बहोत से कारन हैं जिसमे…

  • खून के कारन मच्छर उन लोगो को ज्यादा काटते है जिसके खुनमे शकर की मात्रा ज्यादा हो उसके साथ साथ o ब्लड ग्रुप वालो को भी ज्यादा काटते है इसका कारन है कि मच्छर हर तरह का खून नहीं पचा पता और इसीलिए कुछ ऐसे ब्लड ग्रुप वालो को काटते है.
  • रंगो के कारन आपको जानकर आश्चर्य होगाकि मच्छर कुछ ऐसे रंग है जिसकी तरफ ज्यादा आकर्षित होते है जिसमे लाल,नीला,कला जैसे रंगो को ज्यादा आकर्षित होते है और जिसे भी ऐसे रंग के कपडे पहने होते है उसे काटते है.
  • बियर पिने वाले लोगो आपको तो पताही होगा की बियर पीनेसे शरीर का तापमान गढ़ता है जिसकी वजहसे मच्छर उसे काटते है और साथ साथ में जिसका शरीर का तापमान ज्यादा रहता है और एक्सरसाइज या भाग दौड़ करते रहते है उसे मच्छर काटते है क्योकि ज्यादा तापमान से मच्छर आकर्षित होते है.
  • बैक्टेरिया के कारन देखा गया हैकि जहा ज्यादा बैक्टेरिया होते है वहा मच्छर ज्यादा होते है क्योकि बैक्टेरिया मच्छरों को आपनी तरफ आकर्षित करते है.ऐसे ही जिसकी स्किन में ज्यादा बैक्टेरिया होता है उसे ज्यादा काटते है इसी कारन ज्यादातर मच्छर पेरो में काटते है क्योकि पेरो में ज्यादा बैक्टेरिया होते है.

मच्छर किसको ज्यादा काटते है?

  1. गर्भवती महिला को:
    देखा गया हैकि गर्भवती महिलाका पेट सामान्य दिनों की अपेक्षा में ज्यादा गर्म रहता है साथ में एक सामान्य महिला के तुलनामे ज्यादा कार्बन डाइऑक्साइड ज्यादा निकलती है जिसकी वजहसे प्रेग्‍नेंट महिला की तरफ मच्छर ज्यादा आकर्षित होते है और ज्यादा काटते है.
  2. गर्मी और पसीना के कारन:
    हमारे शरीर में कुछ ऐसे भी तत्व होते है जिसकी वजहसे मच्छर हमारी तरह खींचे चले आते है. गर्मी के समय में हमारे शरीर से निकलने वाले पसीने से उत्स्जित लैक्टिक एसिड ,यूरिक एसिड और अमोनिया जो मच्छरों को ज्यादा आकर्षित करते है जो ज्यादा महेनत वाला काम करता है,जिम जानेवाले,ज्यादा पसीना आनेवाले या फिर ज्यादा गर्मी वाली जगह पर रहनेवाले लोगो को मच्छर ज्यादा काटते है.
  3. कपड़े देखकर काट लेते है मच्छर:
    मच्‍छर किसी को देख कर या फिर उसकी गंध से अपना शिकार बनालेते हैं. वैज्ञानिकों की मानें तो मच्‍छर अधिक दृश्यमान हैं, खासकर दोपहर बाद अपनी तेज नजरों से मनुष्‍यों को खोजकर काटते हैं। जब आप डार्क कलर के कपड़े पहनते हैं खासकर काला और लाल रंग तो ऐसे लोगों को मच्‍छर असानी से खोज लेते हैं.
  4. कार्बन डाई ऑक्‍साइड गैस करती है मच्छरोंको उत्तेजित:
    मच्‍छरों के पास इतनी समझ होती कि वह 166 फीट की दूर पर भी कॉर्बन डाई ऑक्‍साइड गैस को पहचान लेते हैं. इस गैस के प्रति मच्‍छर ज्‍यादा आकर्षित होते हैं. हम और आप अपनी श्‍वसन प्रणाली द्वारा ऑक्‍सीजन लेते हैं और कार्बन डाई ऑक्‍साइड छोड़ते हैं। यही कारण है कि मच्‍छर हमारे नाक के आसपास यानी सिर और कान के बाहर मंडराते रहते हैं. इसकी वजह ये गैस ही है.
  5. मच्‍छर ‘O’ ब्‍लड ग्रुप वाले लोगों को निशाना बनाते हैं:
    सीधे तौर पर आप कह सकते हैं कि मच्‍छर के लिए खून अमृत है,खून मच्‍छरों के लिए सब कुछ होता है. मगर फीमेल मच्‍छर अंडे देने के लिए मनुष्‍य के खून में मौजूद प्रोटीन का पोषण प्राप्‍त करते हैं. तो इसमें आश्‍यर्च की बात नहीं है कि कुछ ब्‍लड टाइप मच्‍छरों को ज्‍यादा जरूरत होती है, जिन्‍हें वह अपना निशाना बनाते हैं. ‘O’ ब्‍लड ग्रुप वाले लोग ‘A’ ब्‍लड ग्रुप वाले लोगों की तुलना में मच्‍छरों को ज्‍यादा आकर्षित करते हैं जबकि ‘B’ ब्‍लड ग्रुप के लोगों को सामान्‍य रूप से काटते हैं.

मच्छर क्यों काटते है

मच्छर से बचने के उपाय:

  • मच्छर भगाने वाले पौधे:
    भारत में विभिन्न प्रकार की वनस्पतियाँ मिलती हैं जिनमें वो पौधे भी हैं जो मच्छरों को मार करवातावरन को स्वच्छ रखने में सहायक होते हैं. इन पौधों में नींबू बाम, कटनीप, मेरीगोल्ड, तुलसी, लैवेंडर, पुदीना, लहसुन, गेंदा और मेंहदी का पौधा मुख्य माने जाते हैं.इन इन पौधों को अपने घरके आँगन में बाग में लगानेसे आपके घरके आस पास के मच्छर से बचाव कर सकते है.
  • कपूर:
    भारतमें रहनेवाला हर एक मनुष्य कपूर के बारेमे जानता होगा, इसमें कपूर का उपयोग में कपूर को एक कटोरे में थोड़ा पानी लेकर उसमे भिगो कर उसे कमरेके कोने में रखदे ऐसे करनेसे कपूरकी गंध पुरे कमरे में फेल जाएगी और इसकी वजहसे मच्छर आपके कमरे से दूर रहेंगे और इसको आप हररोज उपयोग कर सकते है उसमे सिर्फ पानी बदलना होगा इसे आप मच्छरसे बचाव कर सकते है.
  • पानी इकठा न होने दे:
    आप जानते ही होंगे जहा बहोत समय से पानी पड़ा हो वहा मच्छर जन्म लेते है जिसमे थोडासा पानी भी तो उसमे बहोतसारे मच्छर जन्म लेते है और उसके कारन बिमारी या फैलने लगती है इसीलिए पानी को इकठा न होने दे,घरके आस पास भी पानी जमा ना होने दे,पक्षी को देने वाला पानी और बर्तन रोज साफ करे और उसमे रोज पानी बदले ताकि आप स्वच्छ और सुरक्षित रह सके.
  • सुगंधित तेल का उपयोग करे:
    आप आपने घर में गंध वाले तेल से किटाणु नाशक तेल का निर्माण कर सकते है ये सुगंधित तेल आपके घर को सुगन्धित के साथ साथ मच्छरों को भी दूर रखता है क्यूंकी इनकी तेज गंध मच्छरों को पसंद नहीं आती है. आप एक शीशी में गंध वाले तेल में थोड़ा सा पानी मिलाकर एक स्प्रे की बोतल तैयार कर लें और इसके उपयोग से निश्चय ही आप मच्छरों के आतंक से बच सकतीं हैं.जिसमे निचे दिए गए तेल का उपयोग कर सकते है :
  • नीम तेल
  • लैवेंडर फूल या तेल
  • नींबू नीलगिरी का तेल
  • टी ट्री ऑइल

 

तो ये कुछ तरीके है,मच्छर क्यों काटते है? ,मच्छर क्यों और किसको ज्यादा काटते है? मच्छर से बचने के उपाय,जिनका इस्तेमाल करके आपको काटने वाले मच्छर की समस्या से छुटकारा पा सकते है, इसके अलावा आपको साफ़ सफाई पर भी ज्यादा ध्यान देना चाहिए, फिनॉयल आदि का इस्तेमाल करना चाहिए, और बाकी इस समस्या से राहत पाने के घरेलू तरीके आपको बता दिए गए है, जिनका इस्तेमाल करके मच्छर काट ने वाली समस्या से छुटकारा पा सकते है

यदि आपको जानकारी अच्छी और मददरूप लगी हो तो आपके दोस्तों को शेयर करे कमेंट करे.ऐसी बहोत जानकारी पाने केलिए हमारी साइट www.latestsupdates.com साथ बने रहे.

1 thought on “मच्छर क्यों काटते है? (Why do mosquitoes bite?)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *