Merry Christmas 2018-क्या आप जानते है की क्रिसमस के पीछे क्या है ?

Merry Christmas 2018 to All,पुरे विश्व में बहोत से विभ्भिन/अलग-अलग धर्मके लोगो बसते है और सब अलग अलग धर्म पालते है.सब धर्म के त्योवहार का महत्त्व अलग होता है जैसे हिन्दू लोगो में दिवाली महत्वपूर्ण त्योवहार है वैसे ही ईसाई धर्म में क्रिसमस का बहोत महत्त्व होता है

क्रिसमस(Merry Christmas 2018) का फेस्टिवल पुरे पूरी दुनिया में बड़े धूमधाम से मनाया जाता है ये दिन ईसाई लोगो के लिए बहोत खास होता है क्योकि इस दिन गॉड जीसस क्राइस्ट का जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है पुरे विश्व में क्रिसमस एक धार्मिक और सांस्कृतिक के रूप में भी मनाया जाता हैं

क्या आप जानते है की क्रिसमस के पीछे क्या है ?

जीसस क्राइस्ट यानि ईसाई लोगो का मसीहा के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है इनकेबारेमे बहोतसी बाते प्रचलित है पर एक कहानी अनुसार माना जाता है की 2000 साल पहले जब इजराइल के अमुक हिस्सों में राजा हेरोदेस का राज चल रहा था यही समय पर भगवान ने गेब्रियल नाम के एक फरिश्ता को नाज़ारेथ (Nazareth) में रहने वाली एक कुवारी महिला के पास भेजा। उस महिला का नाम मैरी (Mary).

मैरी फ़रिश्ते को देखकर आश्चर्यचकित थी, और सोच रही थी की ये कोन है, और क्यों आये है?

फ़रिश्ते ने कहा, भगवान की तुम पर बड़ी कृपा है. तुम एक पवित्र आत्मा के माध्यम से गर्भवती होगी और एक बालक को जन्म दोगी और उसे तुम यीशु (Jesus) कह कर बुलाओगी. वो परमेश्वर का अपना पुत्र होगा और उसका राज्य कभी ख़त्म नहीं होगा.

और दूसरी तरफ जोसफ (Joseph) जो जल्द ही मैरी(Mary) से शादी करनेवाला था जिसे पताचला की उसकी पत्नी पहलेसे ही गर्भवती है तो उसे शादी से मना कर देना चाहिए, पर उसने मना नहीं किया क्योकि उस को गांव के लोगो से पता चला की वो लज्दी एक परमेश्वर के बच्चे को जन्मदेने वाली है. फिर उस दोनों ने शादी कर ली. पर जब वह के राजा ने उस राज्य का कर (Tax) वसूल करने की घोषणा की तो जोसफ और मैरी दोनों वहा से दूर जोसफ का मूल गांव में रहने चले गये पर वह पहले से ही बहोत भीड़ थी.

मैरी गर्भवती होने के कारन रास्ते में बहोत सी मुसकेलिया जेलनि पड़ी और बहोत तलाश करने बाद एक जंगल जैसा विस्तार मिला वहा उसने रात गुजारी उसी दौरान मैरी ने बच्चे को जन्म दिया जो जीसस क्राइस्ट थे जीसस को मसीहा भी कहां जाता हैं

God jesus ने बहोत कम उम्रमे ही आपने चमत्कार दिखाया था वो जब 12 साल के हुए तब उसने बहोत से ज्ञानी को परास्त किया था.

क्रिसमस दिन(Merry Christmas 2018) की कुछ विशेष परंपरा :

इस दिन ईसाई लोगो के लिए महत्व पूर्ण होता हैँ उसकी कुछ परंपरा होती जिसमे चर्च में जाना वहा सेवा करना, चर्च और घर पर उस दिन मोमबत्ती जलाना जैसी परंपरा होती है साथ में सांता क्लॉस (santa claus) द्वारा तोफे देना, Happy Merry Christmas 2018 की बधाईया देना क्रिसमस संगीत बजाना ऐसे बहोत कार्य करते है और अपने धर्म की परंपरा निभाते है इस दिन आपने बच्चों को खुश करने के लिए माता-पिता आपने बच्चे को रात को तोफे देते है.

इस दिन छोटे लोगो कमाई ले लिए सांता क्लॉस के कपडे, सांता क्लॉस जैसी चीजे, सांता क्लॉस के कपडे सांता क्लॉस की टोपी बेचते है और पैसे कमाते है
इस दिन पर सब जगह पर छुटिया होती है स्कूल-कॉलेज और बड़े बड़े शहरो में धूमधाम से मनाया जाता है स्कूल में इस दिन पर प्रोग्राम होता है और वह कुछ लोगो सांता क्लॉस के कपडे पहना कर रखते है और वो छोटे-छोटे बच्चो को तोफे देते है ताकि बच्चो खुश हो जाये।

25 दिसम्बर को बड़ा दिन माना जाता है क्योकि भूगोल की द्रस्टी से ये सबसे लम्बा दिन है इसलिए उसे बड़ा दिन भी कहते है

क्रिसमस वृक्ष (Merry Christmas 2018 Tree) :

Merry Christmas 2018

सदाबहार वृक्ष को क्रिसमस वृक्ष कहा जाता है माना जाता है की जब जीसस क्राइस्ट का जन्म हुआ तब उनके माता पिता को बधाई देने के लिए देवताओ आये थे और वो सदाबहार वृक्ष को सजा कर उसको तोफे में दिया था तबसे सदाबहार वृक्ष को क्रिसमस वृक्ष ही माना जाता है

क्रिसमस के दिन सभी ईसाई के लोगो के घर में क्रिसमस वृक्ष लगा कर सजाये जाते है सब अपनी अपनी इच्छा अनुसार वृक्ष लाते है कोई बड़ा लेट कोई छूटा लेट है कई जगह, जहा सब ईसाई लोग बस्ते वह सोसायटी के बहार सब मिल कर बडा क्रिसमस वृक्ष लगते है और 25 दिसम्बर को क्रिसमस दिन मनाते है और सब मिल कर नाच-गाने का प्रोग्राम रखते है

विश्व का सबसे बड़ा क्रिसमस वृक्ष उत्तरी कैरोलिना के हिल्टन नामक पार्क में स्थित है। यह वृक्ष लगभग 90 फुट ऊंचा है तथा इसकी परिधि 14 फुट है। जब इसकी पूर्ण छाया पड़ती है तो उस छाया की परिधि 110 फुट से अधिक होती है। इस वृक्ष को क्रिसमस त्योहार पर खूब सजाया जाता है। रंगबिरंगे बल्बों, रंगीन कागजों, मोमबत्तियों व शीशे के टुकड़ों से सजा यह वृक्ष बहुत ही मनोहारी लगता है। हजारों लोग इसके दर्शन करने आते हैं।

सांता क्लाज (santa claus) :

Merry Christmas 2018

सांता क्लॉस यानि दाढ़ी वाले बाबा। इस दाढ़ी वाले बाबा के बिना क्रिसमस का मजा फ़ीकाफिका लगता है। क्रिसमस के रात उसकी लम्बी और सफ़ेद दाढ़ी चांदनी की तरफ चमकती है जब कोई ऐसे प्रोग्राम में सांता क्लॉस आते है यानि सांता के कपडे पहन कर जब कोई आता है और बच्चे को कई तरफ के तोफे देता है तो बच्चे बड़े खुस हो जाते है उसके बिना क्रिसमस अधूरासा लगता है

Merry Christmas 2018 day kaise manaya jata hai :

  • आज क्रिसमस जितना धार्मिक है, उतना ही सामाजिक त्योवहार बन गया है। इस अवसर पर सभी व्यावसायिक गतिविधियां अपनी चरम सीमा पर रहती हैं। इस दौरान प्रार्थनाएं, क्रिसमस गीतों कैरोल्स का गायन, शुभकामना कार्ड्‌ एक-दूसरे को देते है।
  • क्रिसमस के दिन लोग चर्च में प्रेयर करते हैं, मेडिटेशन करते हैं, गाने गाए जाते हैं,मोमबत्ती जलाकर सेलिब्रेशन किया जाता है|
  • इस दिन पर सब एक-दूसरे को शुभकामनाऐ देते है और साथ ही में तोफे देकर बधाईया देते है
  • क्रिसमस त्योहार का मकसद प्रेम, एकता को बनाए रखना है |
  • इस दिन पूरे वर्ल्ड में छुट्टी होती है | क्रिसमस डे का मुख्य दिशा खासतौर बच्चों में प्रेम और ईश्वर के प्रति आस्था बनाए रखने के लिए इस दिन कई प्रकार के आयोजन किए जाते हैं.

 

👉Merry Christmas Wishes and Messages, cards, images👈

 

If You like this website, please share to help it grow, Thank You 🙂

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *