दीपावली का अर्थ,कब और क्यों आता है? Happy Diwali To All

🙏 Happy Diwali To All  🙏भारत को त्योवहारो का देश माना जाता है.भारत में कोई ऐसा मास/महीना नहीं होगा जिसमे कोई त्योवहार न आये क्योकि यहां सब धर्म के लोगो रहते है वो सब आपने आपने त्योवहार, परंपरा, अपनी संस्कृति के अनुसार त्योवहार मानते है.इसीलिए भारत एक ऐसा देश है जहा सबसे ज्यादा त्योवहार मनाये जाते है.दिवाली को रोशनी का त्योवहार भी कहा जाता है.और दिवाली हिन्दू धर्मका सबसे बड़ा त्योवहार माना जाता है बड़ा होने के साथ साथ ज्यादा महत्त्वपूर्ण,सांस्कृतिक त्योवहार है.दिवाली सब आपने परिवार दोस्तों सगे-संबंधियों के साथ खुसी से मनाया जाता है।

दीपावली का अर्थ :

दीपावली यानि रोशनी का उत्सव।ये दीपावली दो शब्दों से बना है दीप +आवली =दीपावली जिसका अर्थ होता है दीपों की हर/पंक्ति। दीवाली मनाने के पीछे जो मुख्य रूप से प्रचलित है वो है राजा रावण का वध.यानि भगवान राम जो रावण के साथ युद्ध करके विजय हुए और चोदा साल वनवास पूरा कर के आपने राज्य में वापस लोटे थे उस दिन को दिवाली के रूप में मनाया जाता है.

दिवाली के दिन को बुराई पर अच्छाई की जित के लिए भी जाना जाता है.दिवाली का त्योवहार धनतेरस के दिन यानि दीवालीके दो दिन पहले का दिन,इस दिन पर लोगो धन/लक्ष्मी की पूजा करते है और लोगो इस दिन में सोना-चांदी और बहोतसी खरीदी करते है उसके बाद का दिन यानि दिवाली के एक दिन पहले,कालीचौदस से जानते है उसदिन सब बुराई मिटने के लिए जाना जाता है उसके बाद का दिन यानि दिवाली का दिन.इस दिन पर सब घर में पूजा रखते है.

गणेशजी की पूजा करते है यानि घर में सुख सन्ति सम्पति बनी रहे और रात को सब फटाके फोड़ते है. और दिवाली का मजा लेते है उसके बाद सुबह यानि चौथे दिन हिन्दू कैलेंडर के अनुसार नई साल की शरूआत होती है और उसके बाद पांचवा दिन यानि भाई-बहन का दिन होता है जिसे भाइबिज या भाईदूज कहते है.इस तरह दिवाली पांच दिन का त्योवहार होता है.

दीपावली कब और क्यों आता है?

हिन्दू लोगो के लिए दिवाली एक महत्वपूर्ण पर्व है जो हर साल दशेरा से 20 दिन बाद दिवाली होती है.इस साल दिवाली 7 नवंबर 2018 के दिन है.हर साल मनाने वाला इस पर्व के पीछे बहोतसी कहानिया है जिसमे महत्वपूर्ण कहानी भगवन राम की है दिवाली के दिन वो आपने घर अयोध्या लोटे थे.उसने युद्ध में रावण को हराया था इसी बात को ध्यान में रख कर हर साल दीवाली मनाया जाता है.इस दिन इतिहास रच दिया की बुराई पर हमेंशा अच्छाई की ही जित होती है।

अयोध्या के राजा राम जब अपनी पत्नी सीता और अपने छोटे भाई लक्ष्मण के साथ 14 साल का वनवास काट कर वापस लोटे तब अयोध्याके वासियो ने भगवान राम के स्वागत के लिए पूरा राज्य रोशनी से जगमगाया था साथ में पुरे राज्य में सजावट किया, फटाके फोड़े ऐसे बड़े उत्साह के साथ भगवान राम का स्वागत किया था इसीलिए हम भी हर साल आपने घर को साफ-सफाई करते है घर पे दिया जलते है और दिवाली मानते है.

दिवाली के समय में क्या क्या होता है ?

दिवाली का समय यानि सब के साथ मिल जुल कर मनाने वाला पर्व इस दिनों में सबको छुटिया होती है बड़ो को काम पर छुटिया मिलती है बच्चो को स्कूल कॉलेज में छुटिया होती है यानि छोटा वेकेशन होता है और दिवाली का इंतज़ार सबसे ज्यादा बच्चो को होता है वो इस दिनको लेकर बहोत खुश होते है बच्चो सब मिल कर एक-दुसरो को अपने-अपने फटाकोंके बारे में बाते करते रहते है।

दीपावली दिनों में घरकी महिलाये भी दिवाली के दिनों में घर की सफाई करते है सब पुराना सामान कचरा सब घरसे निकलडेते है घर की सजावट करते है उसके साथ-साथ सभी घरो में मिठाईया, अच्छे अच्छे पकवान बनते है इन दिनों में लोगो छुटिया होने के कारन सब एक दुसरो के साथ मिलते है साथ समय बिताते है मजे करते है इस अवसर पर सभी लोगो अपने परिवार रिस्तेदार मित्रो सबको बधाईया देते है बधाईया के संदेस भेजते है.

अलग देशों में दीवाली का त्योहार:

भारत : दिवाली भारत का सांस्कृतिक त्योवहार होता है इस त्योवहार सब भारतीयों मिलकर मनाते है इन दिनों में सब सरकारी जगह पर भी रजाये होती है दिवाली के दौरान अपने घर ऑफिस की सफाई करते है नए रंग करते है दिवाली के लिए नए कपडे खरीदते है, मिठाईया लेट है, पटाखे फोड़ते है. और बड़े धूमधाम से दिवाली मनाते है.

नेपाल: नेपाल में दीपावली को ‘तिहाड़’ के रुप में मनाया जाता है। ये उत्सव यहां पांच दिनों तक चलता है। पहले दिन गायों की पूजा की जाती है। दूसरे दिन कुत्तों की पूजा की जाती है और उन्हें भोजन दिया जाता है। उत्सव का तीसरा दिन भारत की दीवाली के जैसा ही होता है, उस दिन मिठाइयां बनाई जाती हैं, देवी-देवता की पूजा की जाती है और घरों को सजाया जाता है। चौथे दिन भगवान यमराज की पूजा होती है और पांचवा दिन भैया दूज के रूप में भाई-बहन को समर्पित होता है।

जापान: जापान के लोगों का दीवाली सेलिब्रेट करने का तरीका भारतीयों से बिलकुल अलग है। लोग अपने बगीचों में पेड़ों पर लालटेन और कागज से बने पर्दे लटका देते हैं, साथ ही वे फ्लाइंग लालटेन को आकाश में छोड़ देते हैं जिन्हें देख कर कोई भी अपनी नज़रे उनसे हटाना नहीं चाहेगा। दीवाली की रात सभी लोग साथ मिलकर गाते और नाचते हैं। इस उत्सव के दौरान कुछ लोग बोटिंग भी करते हैं और इस त्योहार का आनंद उठाते हैं।

श्रीलंका: श्रीलंका भारत का पड़ोसी देश होने के साथ-साथ महाकाव्य ‘रामायण’ से भी जुड़ा हुआ है, यही वजह है कि लंका के निवासियों के लिए भी दीवाली का त्योहार खास महत्व रखता है। दीपावली के मौके पर लोग अपने घरों को चीनी मिट्टी के दीयों से सजाते हैं। इस उत्सव में लोग एक-दूसरे के घर जाकर उनसे मिलते हैं और साथ में लजीज भोजन करने का रिवाज है।

ब्रिटेन: ब्रिटेन में भारतीय की संख्या ज्यादा है। यह पर्व वह भी बहुत धूम धाम से मनाया जाता है। ब्रिटेन में स्वामी नारायण का मंदिर है जहाँ मुख्य रूप से यह त्यौहार मनाया जाता है।

मलेशिया: मलेशिया में दीवाली के दूसरे दिन दूसरे धर्म के लोगों को घर में दावत दी जाती है।

मॉरीशस: मॉरीशस में बड़ी मात्रा में हिंदू रहते हैं। दीपावली के दिन वहां पर सरकारी अवकाश होता है।

 

दिवाली का पर्व अपने भीतरके अंधकार रूपी बुराई को भगा कर एक प्रकाशमय उजाला यानि अच्छाई लाने का त्योवहार है. इस दिन पर सब आपने क्रोध, दुश्मनी भूल कर एक दुसरो को बधाईया देते है. दिवाली के समय में बाज़ारो में बड़ी चहल-महल मची होती है. बहोत भीड़ रहती है.इस तरह दीपावली पुरे भारत का सबसे बड़ा महत्वपूर्ण पर्व/त्योवहार है। सभी को हमारी तरफ से शुभ दिवाली, दिवाली की शुभकामनाये,Happy Diwali To All

 

👉 Happy Diwali 2018 Status,wishes,Quotes,greetings,messages,SMS 👈

👉 Happy Diwali images wallpaper HD photo gallery pictures free download 👈

👉Download Mobile App Happy Diwali Status 2018 For Wish Your Family And Friends👈

 

If You like this website, please share to help it grow, Thank You 🙂

1 thought on “दीपावली का अर्थ,कब और क्यों आता है? Happy Diwali To All

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *